Connect with us

प्रौद्योगिकी

घर बैठे Voter ID पर अब आसानी से बदलें अपना पता, यह है पूरा प्रोसेस

Published

on

घर बैठे Voter ID पर अब आसानी से बदलें अपना पता, यह है पूरा प्रोसेस

8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा के चुनाव कराए जाएंगे.

पता बदलवाने के लिए आपको उम्र और ऐड्रेस का प्रूफ चाहिए होगा. उम्र के प्रूफ के लिए आप 5वीं, 8वीं या दसवीं का मार्कशीट, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस या आधार कार्ड का यूज़ कर सकते हैं.

दिल्ली में विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) होने वाले हैं. इसके तारीख की घोषणा हो गई है. निर्वाचन आयोग के अनुसार 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा के चुनाव कराए जाएंगे. ऐसे में तमाम लोग इस स्थिति में होते हैं कि जो दूसरे राज्य से यहां शिफ्ट हुए हैं लेकिन उनकी वोटर आईडी पर उनके मूल घर का पता लिखा हुआ है. अगर आप दिल्ली में ही बस गए हैं और यहां के वोटर बनना चाहते हैं तो आपको वोटर आईडी पर यहां का पता लिखवाना होगा. इस काम को वैलिड डाक्युमेंट के साथ NVSP की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन भी किया जा सकता है.

अपना पता बदलवाने के लिए आपको उम्र और ऐड्रेस का प्रूफ चाहिए होगा. उम्र के प्रूफ के लिए आप 5वीं, 8वीं या दसवीं का मार्कशीट, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस या आधार कार्ड का यूज़ कर सकते हैं. ऐड्रेस प्रूफ के लिए आप रेंट एग्रीमेंट, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, राशन कार्ड, इनकम टैक्स एसेसमेंट ऑर्डर, पानी, टेलीफोन या बिजली का बिल यूज़ कर सकते हैं. ऐड्रेस बदलवाने के लिए आप ऐसे ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं-

>> NVSP की वेबसाइट यानी www.nvsp.in पर जाएं और ‘Forms’ पर क्लिक करें.

>>NVSP website पर रजिस्टर करके लॉगइन आईडी क्रिएट करें.>> अब आपको ऐड्रेस चेंज करने के लिए रिक्वेस्ट करना होगा जिसके लिए आपको पुराने वोटर आईडी और EPIC नंबर की जरूरत पड़ेगी. यहां आप अपना मोबाइल नंबर एंटर करें. आपको ओटीपी आएगी. ओटीपी को वेरीफाई करने के बाद वोटर आईडी पर अंकित ईपीआईसी नंबर एंटर करें. एक यूज़र के लिए केवल एक ही ईपीआईसी नंबर जेनेरेट होता है. अब ईमेल ऐड्रेस को ऐड करके पासवर्ड क्रिएट करें.

>> अब ईपीआईसी नंबर, पासवर्ड का प्रयोग करके साइन इन करें.

>> साइन-इन करने के बाद ‘forms’ पर क्लिक करें.>> फॉर्म संख्या 6 पर क्लिक करें. फॉर्म 6 को पहली बार वोटर के रूप में रजिस्टर करने पर या अपना विधानसभा क्षेत्र बदलने के लिए किया जाता है.

>> आप फॉर्म को हिंदी, अंग्रेजी या अन्य भाषा में भर सकते हैं.

>> अब उस जगह को चुनें जहां आप रहे हैं और वोट करना चाहते हैं. इसके लिए आपको विधानसभा क्षेत्र का विवरण देना होगा

>> अब अपनी व्यक्तिगत जानकारी दें.

>> अब वर्तमान और पुराना पता दें.

>> अपना पासपोर्ट साइज की फोटो और ऐड्रेस प्रूफ की इमेज व उम्र का प्रूफ अपलोड करें.

>> डिक्लेरेशन डीटेल को भरें

>> अब जगह का नाम और कैप्चा भरकर पेज के नीचे सबमिट बटन दबाएं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मोबाइल-टेक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: January 8, 2020, 7:54 PM IST



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रौद्योगिकी

कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर ये अहम जानकारी जुटा रहे हैकर्स, IBM ने किया सतर्क

Published

on

By

(सांकेतिक तस्वीर)

(सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) के वितरण प्रणाली पर इन हैकर्स की नज़र है. IBM ने बीते गुरुवार को अपने ब्लॉग में एक कैंपेन के बारे में जानकारी दी है. इस कैंपेन के जरिए वैक्सीन वितरण के इस्तेमाल होने वाले ‘कोल्ड चेन’ के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 4, 2020, 5:31 PM IST

नई दिल्ली. तकनीकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी IBM ने कोविड-19 वैक्सीन (COVID-19 Vaccine) पर हैकर्स की पैनी नज़र को लेकर सतर्क किया है. इन हैकर्स की नज़र कोविड-19 वैक्सीन की डिस्ट्रीब्युशन करने वाली कंपनियों पर है. IBM को संकेत मिले हैं कि हैकर्स का ध्यान अब दुनियाभर की आबादी तक कोरोना वायरस वैक्सीन पहुंचाने के लिए तैयार किए जा रहे जटिल लॉजिस्टिक्स के काम पर है. IBM ने गुरुवार को एक ब्लॉग पोस्ट में इसकी आशंका जाहिर की है. IBM का कहना है कि उसे एक ‘ग्लोबल फिशिंग कैंपेन’ के बारे में जानकारी मिली है जोकि कोविड-19 वैक्सीन से जुड़ी कंपनियों व संस्थाओं पर केंद्रित है. अमेरिकी साइबरसिक्योरिटी एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर सिक्योरिटी एजेंसी ने भी इस रिपोर्ट को रिपोस्ट किया है.

ये हैकर्स वैक्सीन डिस्ट्रीब्युशन के लिए इस्तेमाल होने वाले ‘कोल्ड चेन’ पर नजर बनाए हुए हैं. Pfizer Inc और BioNTech द्वारा तैयार हो रहे वैक्सीन डिस्ट्रीब्युशन के लिए कोल्ड चेन से जुड़ी मौलिक बातों के बारे में जानना जरूरी है. इस वैक्सीन को -70 डिग्री सेल्सियस या इससे नीचे के तापमान पर स्टोर किया जाता है, ताकि यह खराब न हो.

चीनी कोल्ड चेन कंपनी पर नजर
IBM की साइबरसिक्योरिटी यूनिट का कहना है कि उसे हैकर्स के एक एडवांस ग्रुप के बारे में पता चला है जो एक साथ मिलकर कोल्ड चेन (Cold Chain) के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी जुटा रहे हैं. ये हैकर्स Haier Biomedical के अधिकारियों के नाम ईमेल भेज रहे हैं. बता दें कि हायर बायोमेडिकल चीन की एक कंपनी है, जो किए एक कोल्ड चेन प्रोवाइडर है और वैक्सीन ट्रांसपोर्ट करने व बायोलॉजिकल सैम्पल स्टोरेज का काम करती है.यह भी पढ़ें: RBI MPC बैठक के बाद सेंसेक्स 45 हजार के पार, निवेशकों ने कमाएं 1.25 लाख करोड़ रुपये

वैक्सीन डिलिवरी से जुड़ी ये जानकारी जुटा रहे
IBM का कहना है इन हैकर्स ने हायर बायोमेडिकल द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले मॉडल, प्राइसिंग और अन्य पहलुओं के बारे में जानकारी जुटा रहे हैं. कंपनी द्वारा इस्तेमाल होने वाले रेफ्रिजरेशन यूनिट्स की भी जानकारी इसमें शामिल है. माना जा रहा है ​कि इस कैंपेन का तैयार करने वाले के पास विशेष जानकारी है कि वैक्सीन डिलिवर करने के लिए सप्लाई चेन में किन चीजों की जरूरत होती है.

इस संस्था को भी बनाया टार्गेट
आईबीएम का कहना है कि Haier के नाम पर ये ईमेल्स करीब 10 अलग-अलग संस्थाओं को भेजा गया है. इसमें से एक टार्गेट को IBM ने पहचाना भी है, जिसका नाम ‘द यूरोपियन कमिशंस डायरेक्टोरेट- जनरल फॉर टैक्सेश एंड कस्टम्स यूनियन’ है. यह यूरो​पीय संघ (European Union) में टैक्स व कस्टम के मामलों से जुड़ी संस्था है. इस संस्था ने वैक्सीन आयात के ​लिए नियम भी तैयार किए हैं.

यह भी पढ़ें: RBI ने बदल दिया आपके ATM कार्ड से जुड़ा नियम! 1 जनवरी से हो सकेगी इतने हजार रुपये की पेमेंट

इन अन्य कंपनियों से भी जुटा रहे जानकारी
IBM ने इस ब्लॉग पोस्ट में कहा है कि इन हैकर्स के अन्य टार्गेट में सोलर पैनल मैन्युफैक्चर करने वाली कंपनियां भी शामिल हैं. इन्हीं मैन्युफैक्चरर्स की मदद से वैक्सीन रेफ्रीजरेर्स को पावर दिया जाने की तैयारी है. इसके अलावा ड्राई आईस बनाने वाली पेट्रोकेमिकल प्रोडक्ट्स के बारे में भी ये हैकर्स जानकारी जुटा रहे हैं.



Source link

Continue Reading

प्रौद्योगिकी

वोडाफोन-आइडिया ने लॉन्च किया नया प्लान, OTT सब्सक्रिप्शन के साथ मिलेगा 150 जीबी डेटा

Published

on

By

वोडाफोन आइडिया

वोडाफोन आइडिया

वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ने ग्राहकों के लिए रेडएक्स फैमिली पोस्टपेड प्लान (REDX Family Postpaid Plan) लॉन्च किया है. इस प्लान की कीमत 1,348 रुपये रखी गई है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 3, 2020, 3:50 PM IST

नई दिल्ली. टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ने ग्राहकों के लिए नया पोस्टपेड प्लान लॉन्च किया है. इस प्लान की कीमत 1,348 रुपये रखी गई है. कंपनी ने इसका नाम रेडएक्स फैमिली पोस्टपेड प्लान (REDX Family Postpaid Plan) रखा है. इस प्लान में ग्राहकों को अनलिमिटेड कॉलिंग कई पॉप्युलर ओटीटी ऐप्स का फ्री सब्सक्रिप्शन मिलता है.

रेडएक्स फैमिली पोस्टपेड प्लान में मिलने वाले बेनिफिट
फिलहाल वीआई (VI) के इस प्लान के नियम और शर्तों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है. हालांकि, इस प्लान में कंपनी प्राइमरी कनेक्शन को 150 जीबी की कैपिंग के साथ अनलिमिटेड डेटा ऑफर कर रही है. 100 फ्री एसएमएस के साथ किसी भी नेटवर्क के लिए अनलिमिटेड वॉइस कॉलिंग की सुविधा भी दी जा रही है.

ये भी पढ़ें- Vodafone Idea का शानदार डेटा पैक प्लान! 200 रुपये के रिचार्ज पर पाएं 50GB डेटा का फायदाOTT प्लेटफॉर्म का फ्री सब्सक्रिप्शन

इस प्लान में 5,998 रुपये की कीमत वाला नेटफ्लिक्स सब्सक्रिप्शन, एक साल के लिए अमेजन प्राइम का सब्सक्रिप्शन, 999 रुपये की कीमत में आने वाला जी5 प्रीमियम और Vi Movies & TV ऐप का फ्री सब्सक्रिप्शन दिया जा रहा है.

सेकंडरी कनेक्शन के लिए देने होंगे 249 रुपये
इस प्लान में कंपनी फ्री ऐड-ऑन कनेक्शन नहीं दे रही है. इस प्लान के तहत यूजर अधिकतम 4 सेकंडरी कनेक्शन ऐड कर सकते हैं. सेकंडरी कनेक्शन के लिए ग्राहकों को हर महीने 249 रुपये देने होंगे. सेकंडरी कनेक्शन में कंपनी 50 जीबी तक के रोलओवर के साथ 30 जीबी डेटा दे रही है. सेकंडरी कनेक्शन में कंपनी अनलिमिटेड कॉलिंग के साथ 100 फ्री एसएमएस दे रही है.

ये भी पढ़ें- Airtel Vs Vodafone: 300 रुपये से कम कीमत में हर दिन मिलता है 2GB डेटा, फ्री कॉलिंग और कई बेनिफिट्स

साल में 4 बार एयरपोर्ट लाउंज का फ्री एक्सेस
रेडएक्स फैमिली पोस्टपेड प्लान के यूजर्स को साल में 4 बार इंटरनैशनल और डोमेस्टिक एयरपोर्ट लाउंज का फ्री ऐक्सेस मिलेगा. गौरतलब है कि ओटीटी और एयरपोर्ट लाउंज फैसिलिटी प्लान के प्राइमरी कनेक्शन के लिए उपलब्ध है.



Source link

Continue Reading

प्रौद्योगिकी

Paytm में आया नया फीचर, अब क्रेडिट कार्ड से दे सकते हैं मकान का किराया

Published

on

By

नई दिल्ली. आमतौर पर लोग क्रेडिट कार्ड (Credit Card) से शॉपिंग, रिचार्ज और बिल पेमेंट, रेल और फ्लाइट टिकट बुकिंग, ऑनलाइन पेमेंट आदि करते हैं. क्या आपको पता है कि क्रेडिट कार्ड के जरिए मकान का किराया (Rent) भी चुका सकते हैं. आमतौर पर क्रेडिट कार्ड से रेंट देना संभव नहीं है क्योंकि आपका मकान मालिक मर्चेंट की तरह पेमेंट गेटवे यूज नहीं करता. लेकिन आज मार्केट में क्रेड (CRED), नो ब्रोकर (Nobroker), पेजैप (Payzapp), रेड जिराफ (RedGirraffe) जैसे कई मोबाइल एप्लीकेशन हैं जिसके जरिए आप अपना रेंट क्रेडिट कार्ड से दे सकते हैं. अब देश की सबसे बड़ी ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम (Paytm) ने भी क्रेडिट कार्ड के जरिए रेंट देने की सुविधा शुरू कर दी है. अभी तक पेटीएम पर यूपीआई (UPI), डेबिट कार्ड (Debit Card) और नेटबैंकिंग (Netbanking) के जरिए ही रेंट पेमेंट की सुविधा थी.

रेंट पेमेंट करने पर 2 फीसदी का एक्सट्रा चार्ज लेकिन मिलते हैं रिवॉर्ड पॉइंट्स
हालांकि पेटीएम ऐप के जरिए क्रेडिट कार्ड से रेंट पेमेंट करने पर 2 फीसदी का एक्सट्रा चार्ज भी देना होता है. लेकिन आपको कैशबैक या रिवॉर्ड पॉइंट्स भी मिलते हैं. उदाहरण के लिए 10 हजार रुपये के रेंट पेमेंट पर आपको 10,200 रुपये का पेमेंट करना होगा. हालांकि यूपीआई, डेबिट कार्ड और नेटबैंकिंग के जरिए  रेंट पेमेंट करने पर कोई एक्सट्रा चार्ज नहीं देना होता है.

Paytm इस्तेमाल करने वालों के लिए बड़ी खबर! खत्म किए ये चार्जेस, बदल गए 4 बड़े नियमPaytm ऐप पर कैसे करें रेंट पेमेंट-

1. सबसे पहले Paytm एप्लीकेशन को अपडेट करें.
2. Paytm ऐप ओपन करें और All Service पर क्लिक करें.
3. इसके बाद Monthly Bills पर क्लिक करने पर आपको Inroducing Rent Paytment का ऑप्शन दिखेगा.
4. Inroducing Rent Paytment पर क्लिक करें. इसके बाद Proceed पर क्लिक करें.
5. अब मकान मालिक के बैंक अकाउंट का डिटेल डालें. इसके बाद Proceed करें और मकान मालिक के बैंक अकाउंट को फिर से कंफर्म करें.
6. इसके बाद किराए की राशि डालें.

7. अब पेमेंट मोड सेलेक्ट करें. इसके बाद क्रेडिट कार्ड, यूपीआई, डेबिट कार्ड या नेटबैंकिंग के जरिए ही पेमेंट करें.
8. किराए की राशि आपके मकान मालिक के बैंक अकाउंट में अधिकतम 2-3 दिन में डाल दी जाएगी.

पैसे की है कमी तो Paytm Postpaid से करें शॉपिंग, एक महीने बाद करें पेमेंट

Credit Card से रेंट चुकाने के फायदे
>> क्रेडिट लिमिट का उपयोग करके अपना कैश बचा सकते हैं. क्रेडिट कार्ड के बकाए का पेमेंट आमतौर पर 45-50 दिन बाद देना होता है. इस तरह से रेंट के पैसे को कहीं निवेश कर कुछ कमा सकते हैं.
>>  क्रेडिट कार्ड के जरिए किए गए ट्रांजैक्शन को आप ईएमआई में कंवर्ट कर सकते हैं. इसका मतलब यह हुआ कि आप रेंट को भी ईएमआई के जरिए चुका सकते हैं.
>>  क्रेडिट कार्ड के जरिए किए गए ट्रांजैक्शन पर कैशबैक या रिवॉर्ड पॉइंट्स भी मिलते हैं.



Source link

Continue Reading

Trending