Connect with us

राष्ट्रीय

भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर ने Covid-19 की संभावित इलाज की पहचान की, चूहों पर रिसर्च में मिली कामयाबी

Published

on

भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर ने Covid-19 की संभावित इलाज की पहचान की, चूहों पर रिसर्च में मिली कामयाबी

 इस खोज से कोविड-19 और उच्च मृत्युदर वाली बीमारियों की संभावित इलाज खोजी जा सकती है

वाशिंगटन:

भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर (Indian-American doctor ) ने Covid-19 मरीजों के फेफड़ों में होने वाले जानलेवा नुकसान और अंगों के बेकार होने से रोकने के लिए संभावित इलाज की खोज की है. भारत में जन्मीं और टेनेसी की सेंट ज्यूड चिल्ड्रेन रिसर्च हॉस्पिटल में बतौर अनुसंधानकर्ता तैनात डॉ.तिरुमला देवी कन्नेगांती का इससे संबंधित अनुंसधान जर्नल ‘सेल’ के ऑनलाइन संस्करण में प्रकाशित हुआ है, इसमें उन्होंने चूहों पर अध्ययन के दौरान पाया कि कोविड-19 होने की स्थिति में कोशिकाओं में सूजन की वजह से अंगों के बेकार होने का संबंध ‘हाइपरइनफ्लेमेटरी’ प्रतिरोध है जिससे अंतत: मौत होती है और इस स्थिति से बचाने वाली संभावित दवाओं की उन्होंने पहचान की. 

Newsbeep

अनुसंधानकर्ता ने विस्तार से अध्ययन किया कि कैसे सूजन वाली कोशिकाओं के मृत होने के संदेश प्रसारित होते हैं जिसके आधार पर उन्होंने इसे बाधित करने की पद्धति का अध्ययन किया. सेंट ज्यूड अस्पताल में प्रतिरोध विज्ञान विभाग की उपाध्यक्ष डॉ.केन्नागांती ने कहा, ‘‘इस के कार्य करने के तरीके और सूजन पैदा करने के कारणों की जानकारी बेहतर इलाज पद्धति विकसित करने में अहम है.”

उल्लेखनीय है कि केन्नागांती का जन्म और पालन पोषण तेलंगाना में हुआ है. उन्होंने वारंगल के काकतिय विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र, जंतु विज्ञान और वनस्पति विज्ञान से स्नातक की उपाधि प्राप्त की.उन्होंने परास्नातक और पीएचडी की उपाधि भारत के उस्मानिया विश्वविद्यालय से प्राप्त की. वर्ष 2007 में डॉ. केन्नागाती टेनेसी राज्य की मेमफिस स्थित सेंट ज्यूड अस्पताल से जुड़ी. उन्होंने कहा, ‘‘ इस अनुसंधान से हमारी समझ बढ़ेगी। हमने उस खास ‘साइटोकींस’ (कोशिका में मौजूद छोटा प्रोटीन जिससे संप्रेषण् होता है) की पहचान की है जो कोशिका में सूजन उत्पन्न कर अंतत: उसे मौत के रास्ते पर ले जाता है. इस खोज से कोविड-19 और उच्च मृत्युदर वाली बीमारियों की संभावित इलाज खोजी जा सकती है.” इस अनुसंधान में श्रद्धा तुलाधर, पिरामल समीर, मिन झेंगे, बालामुरुगन सुंदरम, बालाजी भनोठ, आरके सुब्बाराव मलिरेड्डी आदि भी शामिल हैं. 

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

राष्ट्रीय

‘कोविन’ पर 8 दिसंबर तक लोड होंगे सबसे पहले कोरोना वैक्‍सीन ‘पाने’ वाले हेल्‍थ वर्कर्स के आंकड़े, यूं चलेगी पूरी प्रक्रिया

Published

on

By

'कोविन' पर 8 दिसंबर तक लोड होंगे सबसे पहले कोरोना वैक्‍सीन 'पाने' वाले हेल्‍थ वर्कर्स के आंकड़े, यूं चलेगी पूरी प्रक्रिया

पीएम मोदी ने कहा है, अगले कुछ हफ्तों में कोरोना वैक्सीन भारत में आ जाएगी (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

Covid-19 Vaccine: केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से शुक्रवार को एक सर्वदलीय बैठक (All Patty Meet) में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) का खाका देश के सामने रखा गया. इस संबंध में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव की ओर से एक प्रजेंटेशन दिया गया. NDTV को इसकी एक्सक्लूसिव जानकारी मिली है. हर भारतीय, जिसे वैक्सीन देने की जरूरत है, उसे वैक्सीन दी जाएगी. जानकारी के मुताबिक, भारत में वैक्सीन आने पर सबसे पहले एक करोड़ हेल्थ वर्कर्स को दी जाएगी, इनमें कोरोना मरीजों के इलाज में लगे सरकारी और निजी अस्पतालों के डॉक्टर, नर्स आदि शामिल हैं. इसके बाद दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स का नंबर आएगा, इनमें सुरक्षा बल, पुलिस, होम गार्ड, म्यूनिसिपल वर्कर शामिल होंगे.

यह भी पढ़ें

मॉडर्ना की COVID-19 वैक्सीन 3 महीने तक शरीर में एंटीबॉडी को बने रहने में करती है मदद : रिपोर्ट

इनके बाद नंबर आएगा प्राथमिकता वाले उम्र समूह का, जिसमें 27 करोड़ भारतीय होंगे, इसमें 50 वर्ष से ऊपर के लोग होंगे. 50 वर्ष कम उम्र के ऐसे लोग, जिन्हें पहले से कोई बीमारी हो, उन्‍हें वैक्‍सीन देने के लिए ‘कोविन’ नाम का डिजिटल प्लेटफार्म बनाया गया है. हेल्‍थ केयर वर्कर्स के आंकड़े जुटाने का काम चल रहा है. 8 दिसंबर तक इनके आंकड़े ‘कोविन’ पर लोड कर दिए जाएंगे. वैक्सीन के लिए सीरिंज, सुई आदि जुटाने का काम चल रहा है. टीका लगाने वालों को ट्रेनिंग का मटेरियल तैयार हो रहा है.देश में कोरोना वैक्सीन का काम पांच सिद्धातों पर आधारित होगा. तकनीक के आधार पर लागू करना, एक साल या अधिक समय की तैयारी, मौजूदा स्वास्थ्य सेवाओं से कोई समझौता नहीं, चुनावों वयूनिवर्सल इम्यूनाइजेशन कार्यक्रमों के अनुभव का लाभ लिया जाए, लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करना और वैज्ञानिक और अन्य नियामकों पर कोई समझौता नहीं. 

कोरोना वैक्सीन को लेकर सर्वदलीय बैठक में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि अगले कुछ हफ्तों में कोरोना वैक्सीन भारत में आ जाएगी. उन्होंने कहा कि भारत में आठ वैक्सीन पर काम चल रहा है, इनमें से तीन भारत की अपनी हैं. वैज्ञानिकों की मंजूरी मिलते ही वैक्सीन देने का काम शुरू हो जाएगा. पीएम ने बताया कि राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम चल रहा है.कोल्ड चेन व अन्य उपकरणों पर काम जारी है. केंद्र और राज्य सरकार के अधिकारियों को मिला कर नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप बनाया गया. जरूरतों के हिसाब से यह एक्सपर्ट ग्रुप फैसला करेगा.

Newsbeep

कुछ हफ्तों में कोरोना वैक्सीन तैयार कर ली जाएगी : PM मोदी

Source link

Continue Reading

राष्ट्रीय

1965 और 1971 की जंग लड़ी, ऑपरेशन ब्लू स्टार में हुए शामिल अब किसानों का साथ देने दिल्ली पहुंचे केरन सिंह

Published

on

By

केरन सिंह (Keran Singh) ने हिदुस्तानी फौज का हिस्सा रहते हुए साल 1965 और 1971 की जंग लड़ी. इसके बाद ऑपरेशन ब्लू स्टार में शामिल हुए.

Source link

Continue Reading

राष्ट्रीय

कश्मीर में कई स्थानों पर शून्य से नीचे तापमान, पहलगाम रहा सबसे सर्द स्थान

Published

on

By

कश्मीर में कई स्थानों पर शून्य से नीचे तापमान, पहलगाम रहा सबसे सर्द स्थान

प्रतीकात्मक तस्वीर

श्रीनगर:

कश्मीर में विभिन्न स्थानों पर तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया गया .घाटी में पहलगाम सबसे सर्द स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 3.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया . अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को इसकी जानकारी दी . अधिकारियों ने बताया कि कोकेरनाग को छोड़कर कश्मीर के सभी मौसम केंद्रों ने कल रात का तापमान शून्य के नीचे दर्ज किया है . शोपियां जिले में तापमान शून्य के नीचे 3.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान शून्य के नीचे 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

यह भी पढ़ें

अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर में पिछले शुक्रवार को न्यूनतम तापमान शून्य के नीचे 2.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था जो बृहस्पतिवार को शून्य के नीचे 1.4 ​डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया . मौसम विभाग के अनुसार काजीगुंड में तापमान शून्य के नीचे 0.8​ डिग्री सेल्सियस, कुपवाड़ा में शून्य के नीचे 1.8 डिग्री जबकि कोकेरनाग में 0.4 ​डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया . विभाग ने घाटी में छिटपुट स्थानों पर हल्की बारिश अथवा हिमपात का अनुमान लगाया है . 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Newsbeep

Source link

Continue Reading

Trending