Connect with us

खेल

विराट कोहली की गिरफ्तारी को लेकर मद्रास हाईकोर्ट में याचिका दायर, जानिए पूरा मामला

Published

on

नई दिल्ली: चेन्नई के वरिष्ठ अधिवक्ता एपी सूर्यप्रकाशम ने मद्रास हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की है जिसमें ऑनलाइन गैंबलिंग पर बैन, और गिरफ्तारी और उनलोगों पर मुकदमा दायर होना चाहिए जो इसके संचालन से जुड़े हुए है. इसके अलावा उन सेलेब्रिटी पर भी कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए जो इसका विज्ञापन करते हैं. याचिका में कहा गया है कि गैंबलिंग एक कानूनी अपराध है. इसकी वजह से तमिलनाडु में युवाओं खुदकुशी की वारदात बढ़ गई है, क्योंकि गैंबलिंग के कारण आर्थिक नुकासान होता है.

इस मामले की सुनवाई 4 या 5 अगस्त को हो सकती है. याचिका में इस तरह की गैंबलिंग की तुलना ब्लू व्हेल चैलेंज से की गई है, जिसकी वजह से कई युवाओं ने अपनी जान गंवाई थी, अर्जी में इस गैंबलिंग को समाज के लिए खतरा बताया गया है. याचिकाकर्ता के मुताबिक, ‘युवा को इस तरह की ऑनलाइन गैंबलिंग गेम की लत लग गई है, क्योंकि इस गेम के जरिए कई लोगों को कैश बोनस दिए जाते हैं.’

याचिका में ये भी कहा गया है कि, ‘इस गेम को प्रोमोट करने के लिए क्रिकेट और फिल्मों के दिग्गजों का इस्तेमाल किया जाता है जैसे टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और एक्ट्रेस तमन्ना भाटिया, ये लोग युवाओं का ब्रेनवॉश करते हैं. युवा इसे टाइमपास के लिए खेलना शुरू करते हैं, लेकिन फिर उन्हें इसकी लत लग जाती है. इसके लिए युवा ऊंची ब्याज दरों पर कर्ज लेते हैं जब वो ऐसी हालत में पहुंच जाते हैं जहां उनको भारी नुकसान होता है और वो कर्ज चुका नहीं पाते हैं, फिर वो खुद की जान ले लेते हैं’

अर्जी के मुताबिक, ‘ये गैंबलिंग की लत समाज के लिए काफी खतरनाक है और भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 का उल्लंघन है, क्योंकि ये जिंदगी जीने के हक को छीनता है, इसलिए ये याचिका इस गेम को बैन करने के लिए दायर की गई है.’ चेन्नई में हाल में ही 19 साल एक छात्र ने खुदकुशी की थी, सुसाइड नोट में ऑनलाइन गैंबलिंग का जिक्र है, याचिकाकर्ता का कहना है कि प्रशासन के इन बातों की जानकारी है, लेकिन इस गेम को बैन करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है

जब याचिकाकर्ता सूर्यप्रकाशम से पूछा गया कि क्या ऑनलाइन गैंबलिंग निजी इच्छा नहीं है? इसके जवाब में सूर्यप्रकाशम ने WION से कहा कि ऑनलाइन गैंबलिंग में नुकसान जल्द होता है, वहीं सिगरेट और शराब से किसी भी शख्स का नुकसान 15 साल में होता है. युवा सेलीब्रिटी के प्रचार से प्रभावित हो जाते हैं. युवा अपने परिवार की मेहनत की कमाई और जेब खर्च को बर्बाद करते हैं, और फिर कर्ज लेते हैं.हाल के दिनों में इन घटनाओं में इजाफा हुआ है क्योंकि ज्यादातर युवा बेरोजगार और बेकार बैठे हैं.

हाल में ही मद्रास हाईकोर्ट की मदुरई बेंच ने कहा है कि क्रेंद्र और राज्य सरकारें इसको लेकर एक कानून बना सकती है जिससे रुपयों से जुड़ी ऑनलाइन रमी और दूसरे ऑनलाइन कार्ड गेम को पूरे देश में बैन किया जा सके. तेलंगाना सरकार के अध्यादेश लाया था जिसमें 1974 के गेमिंग एक्ट का संशोधन किया गया था.इसके तहत तेलंगाना राज्य से कोई भी शख्स कैश के लेनदेन वाला गेम नहीं खेल सकता.
(इनपुट-WION)



Source link

खेल

ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच होने वाली टी-20 सीरीज रद्द, जानिए क्या है वजह

Published

on

By

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच अक्टूबर के पहले हफ्ते में प्रस्तावित 3 मैचों की टी-20 सीरीज को स्थगित कर दिया गया है. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने मंगलवार को इस बात की जानकारी दी. इस टी-20 सीरीज के मैच टाउंसविले, केर्न्‍स और गोल्ड कोस्ट में 4, 6 और 9 अक्टूबर को खेले जाने थे.

सीए ने अपने आधिकारी ट्विटर हैंडल पर एक बयान जारी कर बताया है, ‘क्रिकेट वेस्टंडीज के साथ मिलकर हमने अक्टूबर में क्वींसलैंड में होने वाली टी-20 सीरीज को रद्द करने का फैसला किया है.’

उन्होंने कहा, ‘इसे आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारी के मद्देनजर आयोजित किया गया था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में होने वाले इस टी-20 वर्ल्ड कप को अब 2021 या 2022 तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.’

ऑस्ट्रेलिया का अगला अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम इंग्लैंड के साथ सीमित ओवरों की सीरीज है जिसमें तीन टी-20 और इतने ही वनडे मैचों की सीरीज है जिसकी शुरुआत 4 सितंबर से होनी है. वेस्टइंडीज ने हाल में ही इंग्लैंड के खिलाफ 3 मैचों की टेस्ट सीरीज खेली थी, जहां उसे 2-1 से हार का सामना करना पड़ा था
(इनपुट-आईएएनएस)



Source link

Continue Reading

खेल

4 मैच जब टीम इंडिया ने किया हर किसी को हैरान, हासिल की सिर्फ 1 रन से जीत

Published

on

By

क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है जहां एक-एक रन और एक एक गेंद की अहमियत होती है. कम अंतर से जीत के लिए भी टीम काफी मेहनत करती है.

Source link

Continue Reading

खेल

कोविड टास्क फोर्स के अध्यक्ष बन सकते हैं राहुल द्रविड़, मिलेगी कई अहम जिम्मेदारियां

Published

on

By

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) कोविड-19 को लेकर एक  टास्क फोर्स का गठन करेगा जिसमें पूर्व कप्तान एवं राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के प्रमुख राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) शामिल होंगे. बीसीसीआई ने राज्यों को भेजी मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) में राज्य संघों को इसकी जानकारी दी. एनसीए प्रमुख होने के नाते द्रविड़ इस कार्यबल के भी अध्यक्ष हो सकते हैं.

एसओपी के मुताबिक खिलाड़ियों को अपने-अपने केंद्रों पर प्रशिक्षण शुरू करने से पहले एक सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करना होगा. इसमें 60 वर्ष से अधिक उम्र या स्वास्थ संबंधी परेशानी का सामना कर रहे किसी व्यक्ति के शिविर में भाग लेने पर रोक है. बेंगलुरू एनसीए में प्रशिक्षण बहाली के लिए, कोवड-19 कार्यबल में द्रविड़, एक चिकित्सा अधिकारी, एक स्वच्छता अधिकारी के अलावा बीसीसीआई एजीएम, क्रिकेट संचालन शामिल होंगे.

उनकी जिम्मेदारियों में ‘स्पष्ट और नियमित रूप से खिलाड़ियों के साथ संवाद करना, जोखिम को प्रबंधित करने के लिए किए जा रहे उपाय का उल्लेख करने के साथ कोविड-19 से जुड़े मामलों के बारे में जानकारी’ देना शामिल है. खिलाड़ियों और राज्यों के केन्द्र की तरह एनसीए में भी क्रिकेटरों को प्रशिक्षण शुरू करने से पहले एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करना होगा.

एसओपी के मुताबिक, ‘प्रशिक्षण की बहाली से पहले कोविड-19 संक्रमण की संभावना का पता लगाने के लिए एनसीए के प्रशासनिक कर्मचारियों सहित सभी खिलाड़ियों और कर्मचारियों का कोविड-19 (आरटी-पीसीआर) परीक्षण किया जाएगा.

एसओपी के मुताबिक, ‘राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के शुरू होने से पहले, खिलाड़ी इस एसओपी में निर्धारित सभी प्रोटोकॉल का पालन करने और कोविड-19 रोकथाम के संदर्भ में समय-समय पर जारी किए गए विभिन्न सरकारी आदेशों का पालन करने के लिए लिखित में सहमति देना होगा.

क्रिकेट को फिर से शुरू करने पर बीसीसीआई द्वारा जारी किये गये दिशानिर्देश की प्रति पीटीआई-भाषा के पास भी है। इसके मुताबिक, ‘खिलाड़ियों, कर्मचारियों और हितधारकों की स्वास्थ्य और सुरक्षा संबंधित चीजों की जिम्मेदारी राज्य क्रिकेट संघों की होगी.’

ऐसे सहायक कर्मचारी, अधिकारी जिनकी उम्र 60 साल से अधिक है या जो बीमार है, मैदान पर आने और प्रशिक्षिण शिविर में भाग लेने पर तब तक रोक होगी जब तब कि ‘सरकार द्वारा उपयुक्त दिशानिर्देश जारी नहीं किए जाते.’ स्टेडियम में यात्रा से लेकर वहां प्रशिक्षण तक खिलाड़ियों को सख्त सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.

साल 2019-2020 का घरेलू सत्र मार्च में ही खत्म हो गया था लेकिन अगस्त में शुरू होने वाला आगामी सत्र भी छोटा किया जाएगा. खिलाड़ियों को स्टेडियम जाते समय एन-95 मास्क पहनना होगा. अभ्यास के दौरान चश्मे भी लगाने होंगे. इसमें कहा गया, ‘शिविर के पहले दिन वेबिनार और जानकारी देने के लिये कार्यशाला का संचालन राज्य ईकाइयों द्वारा नियुक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी करेंगे.’

खिलाड़ियों को अपने वाहन से स्टेडियम आने की सलाह दी गई है । मैदान पर सिर्फ खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ और मान्यता प्राप्त मैदानकर्मी, कैटरिंग और सुरक्षा स्टाफ ही आ सकेगा. स्टेडियम में प्रवेश सिर्फ एक द्वार से होगा. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि घरेलू सत्र कब शुरू होगा लेकिन सभी सरकारी दिशा निर्देशों का पालन करना होगा.
(इनपुट-भाषा)

LIVE TV



Source link

Continue Reading

Trending