Connect with us

राष्ट्रीय

UGC की छात्रों को सलाह- Exam की तैयारी करें, SC में मामले का मतलब परीक्षा रद्द होना नहीं

Published

on

नई दिल्ली: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) से संबंधित देशभर के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में फाइनल ईयर की परीक्षाएं 30 सितंबर तक आयोजित करवाने के मामले में सुनवाई सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 10 अगस्त के लिए टाल दी.

यूजीसी ने कहा कि किसी को भी इस धारणा में नहीं रहना चाहिए कि ये मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है इसीलिए कोर्ट ने परीक्षा रोक दी है. छात्रों को अपनी पढ़ाई की तैयारी जारी रखनी चाहिए.

आज सुनवाई में वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि बहुत से विश्विद्यालयों में ऑनलाइन परीक्षा के लिए जरूरी सुविधाएं नहीं हैं. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऑफलाइन का भी विकल्प है.

फिर वकील ने कहा कि लेकिन बहुत से लोग स्थानीय हालात या बीमारी के चलते ऑफलाइन परीक्षा नहीं दे पाएंगे. फिर कोर्ट ने कहा कि उन्हें बाद में परीक्षा देने का विकल्प देने से और भ्रम फैलेगा लेकिन ये तो छात्रों के हित में नजर आता है. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट कमेटी की तरफ से लिए गए फैसले की कॉपी रिकॉर्ड पर रखने को कहा है.

इससे पहले यूजीसी ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया. जिसमें कहा गया कि फाइनल ईयर की परीक्षाएं 30 सितंबर तक आयोजित करवाने का मकसद छात्रों का भविष्य संभालना है ताकि छात्रों की अगले साल की पढ़ाई में देरी ना हो. देशभर के विश्वविद्यालयों में फाइनल ईयर परीक्षा करवाने को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने UGC को जवाब देने के लिए कहा था.

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिकाओं में कोरोना को लेकर छात्रों के स्वास्थ्य के मद्देनजर परीक्षा आयोजित ना करवाने की मांग की गई है. याचिकाओं में 6 जुलाई को जारी किए गए यूजीसी के दिशानिर्देशों को रद्द करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से निर्देश जारी करने की मांग की गई है. 6 जुलाई को यूजीसी के दिशानिर्देशों में सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को 30 सितंबर तक अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करने का निर्देश दिया गया था.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विश्वविद्यालयों और संस्थानों द्वारा 6 जुलाई, 2020 की अधिसूचना जारी करते हुए परीक्षा आयोजित करने की अनुमति दी थी और विश्वविद्यालयों को यूजीसी के दिशानिर्देशों के अनुसार अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा आयोजित करने का आदेश दिया था.

याचिकाकर्ताओं में कोरोना पॉजिटिव का एक छात्र भी शामिल है. उसने कहा है कि ऐसे कई अंतिम वर्ष के छात्र हैं जो या तो खुद या उनके परिवार के सदस्य कोरोना पॉजिटिव हैं. ऐसे छात्रों को 30 सितंबर, 2020 तक अंतिम वर्ष की परीक्षाओं में बैठने के लिए मजबूर करना, अनुच्छेद 21 के तहत प्रदत्त जीवन के अधिकार का खुला उल्लंघन है.



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राष्ट्रीय

दिल्ली: पकड़ा गया नाबालिग से दरिंदगी करने वाला आरोपी, बच्ची की हालत नाजुक

Published

on

By

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के पश्चिमी विहार इलाके में 12 वर्षीय मासूम बच्ची से दरिंदगी करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उधर, बच्ची अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है. बच्ची की हालत नाजुक बनी हुई है.

इलसे पहले गुरुवार शाम को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने एम्स (AIIMS) में 12 साल की नाबालिक रेप पीड़िता को देखा और उसके परिजनों से मुलाकात की. मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्ची की हालत गंभीर है. वह फिलहाल बेहोशी की हालत में है.

ये भी पढ़ें- नाबालिग से रेप मामला: दिल्ली महिला आयोग ने DCP को भेजा नोटिस, 2 दिन में मांगा जवाब

सीएम ने कहा कि बच्ची की सर्जरी की गई है, डॉक्टर्स पूरी कोशिश कर रहे हैं उसे बचाने की. इम मामले को लेकर सीएम ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से भी बातचीत की. दिल्ली सरकार ने बच्ची के परिवार को 10 लाख रुपये के मुआवजा देने का ऐलान किया है. 

उधर, महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी नाबालिक रेप पीड़िता से एम्स में मुलाकात की. उन्होंने कहा कि पीड़िता के साथ बर्बरता पूर्वक व्यवहार किया गया. उसे जान से मारने की कोशिश की गई. मालीवाल ने कहा कि पीड़िता की स्थिति नाजुक है. 

बता दें कि दिल्ली के पश्चिम विहार इलाके में एक 12 साल की मासूम के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी गईं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 12 साल की एक मासूम बच्ची को खून से लथपथ हालात में मंगलवार शाम संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्होंने बताया कि बच्ची के पूरे शरीर पर गहरे घाव थे और उसके प्राइवेट पार्ट से भी लगातार खून बह रहा था. मासूम का पूरा शरीर खून से लथपथ हो गया था.



Source link

Continue Reading

राष्ट्रीय

किसानों के लिए खुशखबरी : कल से शुरू होगी ‘किसान रेल’, जानिए किन राज्यों को होगा फायदा

Published

on

By

किसानों के लिए खुशखबरी : कल से शुरू होगी 'किसान रेल', जानिए किन राज्यों को होगा फायदा

7 अगस्त से शुरू होगी किसान रेल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के बीच किसानों द्वारा उपभोक्ताओं को फल, सब्जी इत्यादि की आपूर्ति करने के लिए मध्य रेल (Central Railway) किसान पार्सल रेल चलाने जा रही है. ‘किसान रेल’ की शुरुआत 7 अगस्त यानी कल से होगी. पहली किसान रेल सुबह 11 बजे से चलेगी. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा इस ट्रेन का शुभारंभ करेंगे. 

किसान रेल नासिक से देवलाली से बिहार के दानापुर तक चलेगी. इसके जरिए किसानों की उपज का रेल से परिवहन होगा. यह ट्रेन विभिन्न स्टेशनों पर माल लेने और उतारने के लिए रूकेगी. 7 अगस्त से 20 अगस्त तक यह विशेष गाड़ियां हर शुक्रवार को देवलाली से दानापुर के लिए चलेंगी और हर रविवार को दानापुर से देवलाली के लिए चलेगी. इस ट्रेन में 10 पार्सल वैन होगी. 

यह विशेष किसान ट्रेन नासिक रोड, मनमाड, जलगांव, भुसावल, बुरहानपुर, खांडवा, इटारसी, जबलपुर, सतना, मणिकपुर, प्रयागराज चियोकी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन और बक्सर स्टेशन पर रुकेगी. इस लिहाज से पहली ट्रेन से महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार के किसानों को सीधे तौर पर फायदा मिलने की उम्मीद है. किसानों की मांग को देखते हुए ट्रेन के ठहराव को बढ़ाया भी सकता है.

 



Source link

Continue Reading

राष्ट्रीय

कोरोना: देश में पिछले 24 घंटे में 56,282 नए केस, 904 लोगों की मौत

Published

on

By

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी जारी है. पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 56,282 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या 19,64,536 हो गई और मृतकों की संख्या 40,699 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 904 मरीजों की मौत हुई है. अब तक 1328336  मरीज संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. 5,95,501 मरीजों का इलाज चल रहा है. राहत की बात यह है कि रिकवरी रेट में सुधार जारी है और यह बढ़कर 67.61% हो गया है.  

गुजरात में कोरोना के मामले 66,000 के पार
गुजरात में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 1073 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई. कुल मामले 66 हजार के पार चले गए हैं. राज्य में अब मृतकों की संख्या 2,557 हो गई है. राज्य में कुल मामले 66,777 हो गए हैं. राज्य में सबसे ज्यादा मामले सूरत से ही सामने आए हैं. जिले में कुल मामले 14,902 हो गए हैं. अहमदाबाद जिले में कुल मामले 27,283 हो गए हैं.  

कर्नाटक में कोरोना संक्रमण से अब तक 2,804 लोगों की मौत
कर्नाटक में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण से 100 लोगों की मौत होने के साथ ही संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,804 हो गई है, वहीं राज्य में अभी तक 1.50 लाख से ज्यादा लोगों के वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,619 नए मामलों में से 1,848 बेंगलुरु सदर जिले के हैं. राज्य में फिलहाल 73,958 लोगों का इलाज चल रहा है. 

झारखंड में रिकॉर्ड 978 नए मामले 
झारखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के रिकॉर्ड 978 नर मामले सामने आए. अब राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 15,048 हो गयी। वहीं संक्रमण से सात और लोगों की मौत होने से मृतक संख्या 136 हो गई. राज्य में पिछले 24 घंटो में सात और संक्रमितों की मौत हो गई जिन्हें मिलाकर राज्य में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 136 हो गई है. इसके अलावा राज्य में संक्रमण के 978 नये मामले सामने आए जिन्हें मिलाकर अब राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 15048 हो गई है. 

 

LIVE टीवी:

 



Source link

Continue Reading

Trending